शहर की गलियों में कहीं रहता है!

मिल ही जाएगा कभी दिल को यक़ीं रहता है,
वो इसी शहर की गलियों में कहीं रहता है|

अहमद मुश्ताक़

Leave a Reply