किस राहगुज़र के हम हैं!

चलते रहते हैं कि चलना है मुसाफ़िर का नसीब,
सोचते रहते हैं किस राहगुज़र के हम हैं|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply