ये ख़ामोशी क्या चीज़ है!

हम लबों से कह न पाए उन से हाल-ए-दिल कभी,
और वो समझे नहीं ये ख़ामोशी क्या चीज़ है|

निदा फ़ाज़ली

2 Comments

Leave a Reply