कभी मैंने उसको छुआ नहीं!

उसे पाक नज़रों से चूमना भी इबादतों में शुमार है,
कोई फूल लाख क़रीब हो कभी मैंने उसको छुआ नहीं|

बशीर बद्र

1 Comment

Leave a Reply