मुझे उन का कोई पता नहीं!

इसी शहर में कई साल से मिरे कुछ क़रीबी अज़ीज़ हैं,
उन्हें मेरी कोई ख़बर नहीं मुझे उन का कोई पता नहीं|

बशीर बद्र

Leave a Reply