शबनम फूल के प्यालों में!

यूँ किसी की आँखों में सुब्ह तक अभी थे हम,
जिस तरह रहे शबनम फूल के प्यालों में|

बशीर बद्र

Leave a Reply