मेरे हिस्से की धूप आने दे!

अपने साए को इतना समझाने दे,
मुझ तक मेरे हिस्से की धूप आने दे|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply