क़ाफ़िले रौशनी के देखते हैं!

रोज़ हम इक अँधेरी धुंध के पार,
क़ाफ़िले रौशनी के देखते हैं|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply