कुछ रोज़ जी के देखते हैं!

हौसले ज़िंदगी के देखते हैं,
चलिए कुछ रोज़ जी के देखते हैं |

राहत इन्दौरी

Leave a Reply