ख़्वाब अगली सदी के देखते हैं!

नींद पिछली सदी की ज़ख़्मी है,
ख़्वाब अगली सदी के देखते हैं|

राहत इन्दौरी

2 Comments

Leave a Reply