रास्ते वापसी के देखते हैं!

टिकटिकी बाँध ली है आँखों ने,
रास्ते वापसी के देखते हैं|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply