चाँदनी रातें बिखर गईं!

पैमाना टूटने का कोई ग़म नहीं मुझे,
ग़म है तो ये कि चाँदनी रातें बिखर गईं|

कैफ़ी आज़मी

Leave a Reply