ज़रा सी हवा के चलते ही!

खुल गए शहर-ए-ग़म के दरवाज़े,
इक ज़रा सी हवा के चलते ही|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply