बुझ गया दिल चराग़ जलते ही!

आ गई याद शाम ढलते ही,
बुझ गया दिल चराग़ जलते ही|


मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply