मुझ पे बिखर जाओ किसी दिन!

ख़ुशबू की तरह गुज़रो मिरी दिल की गली से,
फूलों की तरह मुझ पे बिखर जाओ किसी दिन|

अमजद इस्लाम अमजद

Leave a Reply