शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते!

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते.
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते|

गुलज़ार

1 Comment

Leave a Reply