मगर अच्छा नहीं लगता!

ग़लत बातों को ख़ामोशी से सुनना, हामी भर लेना,
बहुत हैं फ़ाएदे इसमें मगर अच्छा नहीं लगता|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply