वो आँख अभी उठी नहीं है!

इक धूप सी है जो ज़ेर-ए-मिज़्गाँ,
वो आँख अभी उठी नहीं है|

अली सरदार जाफ़री

Leave a Reply