ख़ुद से उलझ जाना चाहिए!

यूँ तो क़दम क़दम पे है दीवार सामने,
कोई न हो तो ख़ुद से उलझ जाना चाहिए|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply