नहीं हो तो बुझ जाना चाहिए!

बिजली का क़ुमक़ुमा न हो काला धुआँ तो हो,
ये भी अगर नहीं हो तो बुझ जाना चाहिए|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply