भटक जाना चाहिए!

अपनी तलाश अपनी नज़र अपना तजरबा,
रस्ता हो चाहे साफ़ भटक जाना चाहिए|

निदा फ़ाज़ली

2 Comments

Leave a Reply