कश्ती को उछाला दे दूँ!

डूबते डूबते कश्ती को उछाला दे दूँ,
मैं नहीं कोई तो साहिल पे उतर जाएगा|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply