ख़ुद को भी देखेगा तो डर जाएगा!

इतना मानूस न हो ख़ल्वत-ए-ग़म से अपनी,
तू कभी ख़ुद को भी देखेगा तो डर जाएगा|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply