न रोएगा तो मर जाएगा!

ज़ब्त लाज़िम है मगर दुख है क़यामत का ‘फ़राज़,’
ज़ालिम अब के भी न रोएगा तो मर जाएगा|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply