लहजा बदल के देखते हैं!

अभी कुछ और करिश्मे ग़ज़ल के देखते हैं,
‘फ़राज़’ अब ज़रा लहजा बदल के देखते हैं|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply