आँखों को मल के देखते हैं!

तू सामने है तो फिर क्यूँ यक़ीं नहीं आता,
ये बार बार जो आँखों को मल के देखते हैं|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply