चालें बदल के देखते हैं!

न तुझको मात हुई है न मुझको मात हुई,
सो अब के दोनों ही चालें बदल के देखते हैं|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply