ज़माने भर को समझाने कहाँ जाते!

चलो अच्छा हुआ काम आ गई दीवानगी अपनी,
वगर्ना हम ज़माने भर को समझाने कहाँ जाते|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply