आँख तक आ भी नहीं सकता!

क्या दुख है समुंदर को बता भी नहीं सकता,
आँसू की तरह आँख तक आ भी नहीं सकता|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply