चराग़ों को बुझा भी नहीं सकता!

घर ढूँड रहे हैं मिरा रातों के पुजारी,
मैं हूँ कि चराग़ों को बुझा भी नहीं सकता|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply