बता भी नहीं सकता!

प्यासे रहे जाते हैं ज़माने के सवालात,
किसके लिए ज़िंदा हूँ बता भी नहीं सकता|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply