आँखों में चमकाए हुए रहना!

इक शाम सी कर रखना काजल के करिश्मे से,
इक चाँद सा आँखों में चमकाए हुए रहना|

मुनीर नियाज़ी

1 Comment

Leave a Reply