उकताए हुए रहना!

आदत ही बना ली है तुमने तो ‘मुनीर’ अपनी,
जिस शहर में भी रहना उकताए हुए रहना|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply