जज़्बों की दहकाए हुए रहना!

बेचैन बहुत फिरना घबराए हुए रहना,
इक आग सी जज़्बों की दहकाए हुए रहना|

मुनीर नियाज़ी

2 Comments

Leave a Reply