बाग़ सा महकाए हुए रहना!

छलकाए हुए चलना ख़ुशबू लब-ए-लाली की,
इक बाग़ सा साथ अपने महकाए हुए रहना|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply