शरमाए हुए रहना!

उस हुस्न का शेवा है जब इश्क़ नज़र आए,
पर्दे में चले जाना शरमाए हुए रहना|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply