आइने को लगे अजनबी से हम!

जब से क़रीब हो के चले ज़िंदगी से हम,
ख़ुद अपने आइने को लगे अजनबी से हम|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply