मिलने लगे हर किसी से हम!

अच्छे बुरे के फ़र्क़ ने बस्ती उजाड़ दी,
मजबूर हो के मिलने लगे हर किसी से हम|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply