आपका दीवार हो जाना!

कभी जब आँधियाँ चलती हैं हमको याद आता है,
हवा का तेज़ चलना आपका दीवार हो जाना|

मुनव्वर राना

Leave a Reply