शख़्स है मुँह फेर के जाने वाला!

क्या कहें कितने मरासिम थे हमारे उससे,
वो जो इक शख़्स है मुँह फेर के जाने वाला|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply