सर-ए-दार भी लाने वाला!

क्या ख़बर थी जो मिरी जाँ में घुला है इतना,
है वही मुझको सर-ए-दार भी लाने वाला|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply