औरों को नसीहत नहीं करता!

भूला नहीं मैं आज भी आदाब-ए-जवानी,
मैं आज भी औरों को नसीहत नहीं करता|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply