तिरी बालियाँ तिरे हार लूँ!

अगर आसमाँ की नुमाइशों में मुझे भी इज़्न-ए-क़याम हो,
तो मैं मोतियों की दुकान से तिरी बालियाँ तिरे हार लूँ|

बशीर बद्र

2 Comments

Leave a Reply