औरों को समझाएँगे!

किन राहों से सफ़र है आसाँ कौन सा रस्ता मुश्किल है,
हम भी जब थक कर बैठेंगे औरों को समझाएँगे|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply