जिस दिन धोका खाएँगे!

अच्छी सूरत वाले सारे पत्थर-दिल हों मुमकिन है,
हम तो उस दिन राय देंगे जिस दिन धोका खाएँगे|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply