मगर मात हो गई!

फिर यूँ हुआ कि वक़्त का पाँसा पलट गया,
उम्मीद जीत की थी मगर मात हो गई|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply