वर्ना घर खो जाएँगे!

तुम जो सोचो वो तुम जानो हम तो अपनी कहते हैं,
देर न करना घर आने में वर्ना घर खो जाएँगे|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply