मैं तोड़ फोड़ दूँगा उसे!

बदन चुरा के वो चलता है मुझ से शीशा-बदन,
उसे ये डर है कि मैं तोड़ फोड़ दूँगा उसे|

राहत इंदौरी

Leave a Reply