एक ही घर का अज़ाब क्या देते!

हवा की तरह मुसाफ़िर थे दिलबरों के दिल,
उन्हें बस एक ही घर का अज़ाब क्या देते|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply