तंगी में उसको शराब क्या देते!

शराब दिल की तलब थी शरा के पहरे में,
हम इतनी तंगी में उसको शराब क्या देते|

मुनीर नियाज़ी

2 Comments

Leave a Reply